Friday, May 27, 2022
HomeHindi_MaterialPhysics Class 12 Chapter 1 Notes in Hindi

Physics Class 12 Chapter 1 Notes in Hindi

प्यारे दोस्तों आज हम आपके लिएphysics class 12 chapter 1 notes in hindi भौतिक विज्ञान के महत्वपूर्ण नोट्स ले कर आए हैं जोकि चैप्टर एक से लिए गए हैं हमें उम्मीद है कि यह नोट्स आपको बहुत अच्छे तरीके से पसंद आएंगे और आपका अच्छा मार्गदर्शन करेंगे! उनकी सहायता से आप अच्छे नंबर प्राप्त कर सकते हैं! हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं और इसके अलावा आप हमें कमेंट करके बताइए कि आपको किस किस सब्जेक्ट के नोट्स चाहिए हम आपकी मदद करने के लिए तत्पर है हमें आपकी बात मदद करके खुशी होगी

विद्युत् क्या है ? घर्षण विद्युत् को उदाहरण सहित समझाइए ? 

विद्युत् वह ऊर्जा है जिसके कारण किसी पदार्थ में हल्की वस्तुओं को आकर्षण करने का गुण उत्पन्न हो जाता है ।

विद्युत् दो प्रकार की होती हैं –

  1. स्थिर विद्युत्
  2. धारा विद्युत्

स्थिर विद्युत् 

पदार्थ में उत्पन्न धारा को बहने न दिया जाये स्थिर ही रखा जाए स्थिर विद्युत् कहलाता है।

उदाहरण :सेल वै टरी आदि में संचित ऊर्जा

धारा विद्युत्

पदार्थ में उत्पन्न धारा को बहने दिया जाए स्थिर न रखा जाये, धारा विद्युत् कहलाता हैं।

उदाहरण : तारों में बहता हुआ करेन्ट ।

घर्षण विद्युत्

वह विद्युत् जो घर्षण के कारण उत्पन्न होती तो घर्षण विद्युत् कहलाती हैं।

उदाहरण:

जब हम सूखे बालों में लगातार कंधी को चुनाते है तब बालों व कंधी के मध्य घर्षण होता है जिससे कंधी आवशत हो जाती हैं। और हल्की वस्तुओं को अपनी ओर आकर्षित करने लगते हैं।

वैद्युत् आवेश क्या है ? यह कितने प्रकार के होते हैं?

वैद्युत् आवेश वैद्युत आवेश एक भौतिक शशि है। वैधुत आवेश को घर सिद्ध करने पर कोई भी पदार्थ विद्युत में हो जाता है अर्थात उसमें आवेश आ जाता है अब यह पदार्थ दूसरे छोटे-छोटे पदार्थों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए समर्थ हो जाता है !

उदाहरण के तौर पर समझते हैं आप उसकी छड़ को अगर किसी ऊनी कपड़े या सर के बालों से  और फिर उसको छोटे-छोटे धूल के कण (पार्टिकल), कागज के टुकड़े  आबनूस की छड़ की तरफ आकर्षित होते जाते हैं यह सिद्ध करता है कि वह आबनूस की छड़ में चार्ज आ गया है ! वह आवेश आ गया है जो उस छोटे-छोटे टुकड़ों और पार्टीकल को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है !

उत्तर-आवेश कितने प्रकार के होते हैं?

(1)धन आवेश घर्षण के कारण जिस पदार्थ में इलेक्ट्रॉनों की कमी आ जाती है और उसमें इलेक्ट्रॉन कम हो जाते हैं उस पदार्थ में उत्पन्न आवेश को धन आवेश कहते हैं इसे प्लस के सिंबल से रिप्रेजेंट किया जाता है !

(2) ऋण आवेश घर्षण के कारण जिस पदार्थ में इलेक्ट्रॉनों की संख्या में वृद्धि हो जाती है अर्थात उनकी संख्या बढ़ जाती है तो उसमें उत्पन्न आवेश को ऋण आवेश कहते हैं इसे minus – के सिंबल से रिप्रेजेंट किया जाता है !

 प्रश्न- आवेशों के मध्य लगने वाले बल कौन-कौन से होते हैं?

 उत्तर-

  • दो सजातीय एक जैसे आवेशों के बीच प्रतिकर्षण बल कार्य करता है !
  • दो विजातीय या विपरीत प्रकार के आवेशों के बीच आकर्षण बल कार्य करता है !

इसको अवश्य पढ़ें-रसायन विज्ञान नोट्स कक्षा 12

 प्रश्न-आवेश उत्पत्ति का इलेक्ट्रॉनिक सिद्धांत क्या है?

 उत्तर- प्रत्येक पदार्थ परमाणु से मिलकर बना है परमाणु के केंद्र में नाविक होता है नाभिक में प्रोटॉन तथा न्यूट्रॉन पाए जाते हैं प्रोटॉन पर आवेश तथा न्यूट्रॉन उदासीन होती है और नाभि के चारो और इलेक्ट्रॉन चक्कर लगाते हैं इन पर ऋण आवेश होता है जो इलेक्ट्रॉन नाभिक के पास वाली कक्षा में होती हैं वह वह बंद इलेक्ट्रॉन कहलाते हैं तथा जो इलेक्ट्रॉन अंतिम कक्षा में होती हैं मुक्त इलेक्ट्रॉन कहलाते हैं यही मुक्त इलेक्ट्रॉन आवेश उत्पत्ति के लिए उत्तरदाई होती हैं !

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular